सीतामढ़ी : एमडीए कार्यक्रम की हुई शुरुआत, 45 लाख लोगों को दी जाएगी फाइलेरिया रोधी दवा की खुराक 

यह भी पढ़ें

- Advertisement -

सीतामढ़ी। जिले में फाइलेरिया उन्मूलन को लेकर सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम(एमडीए) का उद्घाटन जिलाधिकारी सीतामढ़ी मनेश कुमार मीणा ,सिविल सर्जन, जिला जन संपर्क अधिकारी एवं जिला बेक्टरजनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि फाइलेरिया एक गंभीर बीमारी है। इससे ग्रसित लोगों की कार्यक्षमता पूरी तरह प्रभावित होती है।

इसके शुरुआती लक्षण दिखाई नहीं पड़ते हैं। इसलिए जरूरी है कि इसके रोकथाम एवं इससे बचाव के लिए साल में एक बार स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को मुफ्त में खिलाई जाने वाली डीसीइ एवं अल्बेंडाजोल गोलियों का सेवन अपनी उम्र के हिसाब से अवश्य करना चाहिए। कहा कि यह दवा पूरी तरह सुरक्षित और लाभकारी है। बगैर डर-भय के लोग इस दवा का सेवन खाना खाने के बाद कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि फाइलेरिया   उन्मूलन की दिशा में स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया जा रहा कार्य सराहनीय है।

उन्होंने उम्मीद की कि कालाजार उन्मूलन के जैसा ही फाइलेरिया उन्मूलन क्षेत्र में भी सीतामढ़ी जिला भी राष्ट्र स्तर पर एक मॉडल जिला बनेगा। उन्होंने कहा कि फाइलेरिया से बचाव ही इसका उपचार है। जागरूकता और सावधानी से ही बीमारी से बचाव किया जा सकता है। इसके लिए एमडीए के दौरान दवा का सेवन जरूरी है। जिलाधिकारी मनेश कुमार मीणा एवं अन्य पदाधिकारियों ने एल्बेंडाजोल एवं डीइसी टेबलेट का सेवन किया। साथ ही उपस्थित मीडिया कर्मियों सहित अन्य सभी लोगों ने भी दवा खाई। 

जिलाधिकारी एवं उपस्थित पदाधिकारियों द्वारा गुब्बारे उड़ाकर फाइलेरिया मुक्ति का संदेश दिया गया।उपस्थित एएनएम  स्कूल की छात्राओं द्वारा फाइलेरिया उन्मूलन से संबंधित विषय पर गीत की प्रस्तुति की गई।

- Advertisement -

जागरूकता रथ को किया गया रवाना

स्वास्थ विभाग द्वारा एमडीए कार्यक्रम के तहत फाइलेरिया से बचाव को लेकर सघन जागरूकता अभियान के मद्देनजर 22 जागरूकता वाहनों की रवानगी जिलाधिकारी द्वारा हरी झंडी दिखाकर की गई। उक्त वाहनों के द्वारा जिले के सभी प्रखंडों/ ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में फाइलेरिया से बचाव को लेकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। 

मौके पर उपस्थित डॉक्टर आरके यादव ने बताया कि यह दवा 2 वर्ष से ऊपर तक के लोगों को दिया जाएगा। दो वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं एवं गंभीर रोग से ग्रसित व्यक्तियों को यह दवा नहीं दिया जाएगा। दवा खाली पेट नहीं खाना है बल्कि भोजन करने के बाद खाना है। एल्बेंडाजोल की दवा चबाकर एवं डीईसी टेबलेट पानी से निगलकर खाना है।

जानकारी दी कि 2 से 5 वर्ष तक के बच्चों को डीइसी और एल्बेंडाजोल की एक-एक  गोली ,6 से 14 वर्ष के लिए डीइसी की दो एवं एल्बेंडाजोल की एक गोली गोली एवं इसके ऊपर वाले को डीइसी की 3 एवं अल्बेंडाजोल की एक गोली का सेवन करना है। उन्होंने बताया कि सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम 14 दिनों तक चलेगा जिसमें आशा कार्यकर्ताओं के द्वारा सभी घरों में जाकर फाइलेरिया से बचाव की दवा खिलाई जाएगी।

- Advertisement -

विज्ञापन और पोर्टल को सहयोग करने के लिए इसका उपयोग करें

spot_img
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

संबंधित खबरें