spot_img

कर्मभूमि का जन्मभूमि की तरह लौटेगा गौरव, प्रत्येक मानव में हो भगवान श्रीराम जैसा पुरुषार्थ : जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य

यह भी पढ़ें

- Advertisement -

बक्सर। पद्मविभूषण तुलसीपीठाधीश्वर जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा कि कर्मभूमि का जन्मभूमि की तरह गौरव लौटेगा। इसलिए ही श्रीराम कर्मभूमि न्यास का गठन हुआ है। प्रत्येक मानव में भगवान श्रीराम जैसा पुरुषार्थ जगाना होगा। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम की विजयी यात्रा यहाँ से शुरू हुई थी। अब समय आ गया है। भगवान श्रीराम की कृपा जरूर होगी। उन्होंने कहा कि मैं उन संतों में हूं, जो खड़ी खड़ी बोलता हूं, किसी को खुश करना मेरा काम नही है। बक्सर को ऊँचाई पर ले जाने का समय आ गया हैं। अब कोई किंतु परंतु नहीं होना चाहिए। उन्होंने त्रिदंडी स्वामी जी व मामा जी को याद किया। उनकी दिव्यता की चर्चा की। स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा कि तेरा वैभव अमर रहे माँ, हम दिन चार रहें ना रहे। मेरा सपना है मेरा भारत श्रेष्ठ हो, अगर भारत मे ‘र’ यानी राम को निकाल देंगे तो भात हो जाएगा। जिसे कोई भी खा जाएगा, इसलिए हम सभी को भगवान श्री राम जैसे पुरुषार्थ को अपने अंदर जगाना है। भारत को दिव्य बनाना है।

पद्दविभूषण जगतगुरु रामभद्राचार्य जी महाराज ने राम कथा कहते हुए कहा की अहिल्लावली का बिगाड़ा हुआ नाम है अहिरौली! महर्षि विश्वामित्र महामुनी ज्ञानी उन्हें विश्व का मित्र भी कहा गया है!उन्हें पता हो गया था की प्रभु का अवतार हो चूका है! माता अहिल्या के उद्दार और तड़िका का अंत का समय भी आ चूका है!उन्होंने श्री राम को बुलाने के लिए ही यज्ञ का आयोजन किया और भिकक्षु बनकर अयोध्या जाने का निर्णय किया!विश्वामित्र जी के पास अच्छे 2 शस्त्र थे मगर संकल्प के कारण वे शस्त्र का प्रयोग नही कर सकते थे!भगवान वावन ने भिक्षुक बनकर राजाबली से भिक्षा मांगी थी क्या मांगी थी तो पृथ्वी मांगी थी!

मै पृथ्वी के पुत्री के पति को ही मांग लेता हुँ!ऐसा उनके मन मे विचार आया और अयोध्या चल पड़े!स्वमी जी ने कहा की राजा दशरथ और राजा जनक दोनों शक्ति शाली थे मगर परिवार के कार्य मे लगे थे!और जो परिवार के कार्य मे लगे रहेंगे वे राष्ट्र का कार्य सही से नही कर सकते है! प्रभु श्री राम का जन्मभूमि का निर्माण तो हो रहा है अब समय आ गया है की श्री राम के कर्मभूमि का भी निर्माण होना चाहिए ! अश्विनी चौबे जी हमारे मित्र और भाई समान है! बक्सर के लिए चिंता करते रहते है मै भी बक्सर के उथान के लिए हर सम्भव सहयोग करूँगा!

श्रीराम कर्मभूमि न्यास के तत्वावधान में सनातन संस्कृति समागम के संयोजक केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे जी ने कहा की इस समा गम मे आए हुए सभी अतिथियों,श्रद्धालूओं एवं बक्सर वाशियों का मै आभार ब्यक्त करता हुँ!जिन्होंने ने इस आयोजन मे अपना योगदान दे रहे! बक्सर मेरा कर्म भूमि है!इसके सम्मान, विकास और इसका पुराना धार्मिक वैभव दिलाने के लिए मै रात दिन एक कर दूंगा!

- Advertisement -

कार्यक्रम मे राजेश प्रताप सिंह कृष्णनंद शास्त्री जी, छविनाथ त्रिपाठी जी, अरुण मिश्रा जी प्रदीप राय जी अर्जित साश्वत, परशुराम चतुर्वेदी, अविरल साश्वत, अनिल स्वामी, पंकज मिश्रा राजेन्द्र सिंह, उपेंद्र भाई त्यागी हिरामन पासवान, निर्भय राय, रामकुमार सिंह राजवंश सिंह,नन्द कुमार तिवारी सम्भु पाण्डेय पुनीत सिंह अनुराग श्रीवास्तव मनोज पाण्डेय इंद्रालेश पाठक सुनील सिंह सौरभ तिवारी विकास कायस्थ अक्षय ओझा गोरेलाल बिनय उपाध्याय संजय दीपक यादव आशानंद सिंह पूनम रविदास इंदु देवी दुर्गावती चतुर्वेदी तेजप्रताप सिंह छोटे अन्नू मिश्रा विवेक चौधरी धनंजय राय दीपक पाण्डेय ओमजी यादव राजेश राय सौरभ चौबे विनोद राय राहुल दुबे धनंजय त्रिगुण चन्दन पाण्डेय सहित सैकड़ो कार्यकर्त्ता मौजूद रहे.

- Advertisement -

विज्ञापन और पोर्टल को सहयोग करने के लिए इसका उपयोग करें

spot_img
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

संबंधित खबरें