वैशाली : दवा खाने से उल्टी और चक्कर आने का लोगों ने जाना राज, दवा सेवन के प्रति दिखाया उत्साह

यह भी पढ़ें

- Advertisement -

पातेपुर में आशा और शिक्षा विभाग का हुआ उन्मुखीकरण, स्कूली बच्चों ने दवा खाकर तोड़ा भ्रम 

वैशाली। बच्चों को जब यह जानकारी मिली कि फाइलेरिया से बचाव की दवा खाने से उल्टी और चक्कर आना कोई समस्या नहीं है। यह तो एक शुभ संकेत है कि उनमें से बीमारी का खात्मा हो रहा है, फिर क्या बच्चों का उत्साह चरम पर आ गया। हर बच्चे में समान रुप से फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम में भागीदार बनने की ललक दिखी।

आशा ने भी डोज पोल खोला और एक एक कर सभी बच्चों को एमडीए के तहत आइडीए की दवा खिलाई गयी। हाजीपुर सदर स्थित दौलतपुर स्कूल का यह नजारा पूरे जिले में एक समाना सा था। राघोपुर, सहदेई, महनार ​सहित जिले के सभी प्रखंडों के स्कूलों में लगे बूथों पर बच्चों ने दवाई खाई।

राजकीय मध्य विद्यालय, जढ़ुआ गोलंबर के आठवीं वर्ग की छात्रा गायत्री कुमारी और सातवीं की छात्रा ज्योति कुमारी ने बताया कि उसने भी एमडीए/आइडीए के तहत तीन तरह की दवा खाई है। उसे किसी भी स्वास्थ्य दिक्कत नहीं हुई। स्कूल में उन्हें बताया गया था कि अगर उसके अंदर माइक्रोफाइलेरिया होगा तभी उसे उल्टी या पेट में दर्द जैसी शिकायत होगी। उसे अभी तक ऐसा कुछ भी महसूस नहीं हुआ है। 

- Advertisement -

पातेपुर में अन्य विभागों के साथ आशा का हुआ उन्मुखीकरण

सर्वजन दवा अभियान के तहत कुछ बच्चों में उल्टी, दस्त और पेट दर्द की शिकायत के बाद जिला भीबीडीसी पदाधिकारी गुड़िया कुमारी ने सोमवार को पातेपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रखंड की पांच सौ आशा के साथ शिक्षा विभाग, पंचायती राज विभाग सहित, जीविका तथा सेविका/ सहायिकाओं सहित मीडिया कर्मियों का सर्वजन दवा सेवन अभियान  पर उन्मुखीकरण किया।

उन्होंने बताया कि दवा खाने के बाद प्रतिकूल असर पर पैनिक नहीं होने के साथ घबराने की भी आवश्यकता नहीं है। यह प्रतिकूलता तभी आती है जब दवा खाने वाले के अंदर माइक्रोफाइलेरिया होते है। माइक्रोफाइलेरिया के मरने पर उनके शरीर से कुछ टॉक्सिन का स्राव होता है। जिससे किसी किसी को यह सामान्य लक्षण उभरते हैं। कुछ देर आराम करने से यह लक्षण स्वत: ठीक हो जाते हैं।

अगर किसी तरह का भय हो तो आशा को कहें या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाएं। मौके पर जिला भीबीडीसी पदाधिकारी डॉ गुड़िया कुमारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अवनी कुमार, ब्लॉक एजुकेशन आफिसर प्रमोद कुमार, पीरामल के जिला प्रमुख  कुमार अभिषेक, पीयूष चंद्र, सीफार की सुमन कुमारी समेत अन्य लोग मौजूद थे।

- Advertisement -

विज्ञापन और पोर्टल को सहयोग करने के लिए इसका उपयोग करें

spot_img
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

spot_img

संबंधित खबरें