12-24 फरवरी तक नसबंदी कराने वाले पुरुष लाभार्थियों को किया जायेगा सम्मानित : डीएम

यह भी पढ़ें

- Advertisement -

मिशन परिवार विकास अभियान के सफल संचालन के लिए अंतर विभागीय समन्वय समिति की हुई बैठक

जिलाधिकारी ने सभी विभागों के विभागाध्यक्ष को आवंटित की जिम्मेदारियां

सभी प्रखंडों में पांच-पांच पुरुष नसबंदी कराना सुनिश्चित करेंगे संबंधित एमओआईसी

चालू वित्तीय वर्ष में चक्की प्रखंड को लक्ष्य प्राप्त करने की दी चेतावनी

- Advertisement -

बक्सर, 12 फरवरी | जनसंख्या स्थिरीकरण के उद्देश्य से पांच से 24 फरवरी तक मिशन परिवार विकास अभियान का आयोजन किया जा रहा है। जिसको सफल बनाने के उद्देश्य से जिलाधिकारी अंशुल अग्रवाल की अध्यक्षता में अंतर विभागीय समन्वय समिति बैठक की गई।

इस दौरान जिलाधिकारी को जिले में अब तक किए गए प्रयासों और प्राप्त लक्ष्यों की जानकारी दी। जिसपर जिलाधिकारी ने सभी पदाधिकारी इस अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य से पुरुष भागीदारी पर बल देते हुये प्रत्येक प्रखण्ड से 5 पुरुष नसबंदी कराना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि 12 से 24 फरवरी तक नसबंदी कराने वाले पुरुष लाभार्थियों को जिला स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। वहीं, चालू वित्तीय वर्ष में चक्की प्रखंड में अब तक शून्य पुरुष नसबंदी पर नाराजगी जताई और इस परिवार नियोजन पखवाड़ा के दौरान लक्ष्य प्राप्त करने की चेतावनी दी।

जिलाधिकारी ने कहा कि सभी प्रखंड के एमओआईसी राज्य द्वारा प्राप्त सभी परिवार नियोजन के सभी इंडिकेटर पर अपेक्षित लक्ष्य को प्राप्त करना सुनिश्चित करेंगे। साथ ही, स्वास्थ्य विभाग में क्षेत्र स्तर पर कार्य करने वाले प्रत्येक मानव संसाधन यथा आरबीएसके, सीएचओ, एएनएम इत्यादि अपने कार्य क्षेत्रों में जागरुकता अभियान चलाकर परिवार नियोजन सेवाएं दिलाना सुनिश्चित करेंगी।

बीडीओ की अध्यक्षता में हो प्रखंड स्तरीय पदाधिकारियों के साथ उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन बैठक में जिलाधिकारी ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी की अध्यक्षता में संबंधित विभागों (आईसीडीएस, पीआरआई, जीविका, महादलित विकास मिशन इत्यादि) के प्रखंड स्तरीय पदाधिकारियों के साथ उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

वहीं, जिला पंचायत राज पदाधिकारी प्रत्येक प्रखंड में सभी पंचायत प्रतिनिधियों के सहयोग से अपने क्षेत्र में चौपाल आदि लगवाकर जागरुकता अभियान कराना सुनिश्चित करेंगे। जिविका के जिला कार्यकम प्रबंधक अपने प्रत्येक प्रखण्ड कार्यकम प्रबंधक को निर्देशित करेगें कि इस माह के जितने भी कलस्टर मिटिंग एवं एसएचजी की मिटिंग का मुख्य अजेंडा परिवार नियोजन पखवाड़ा रखेंगे।

आईसीडीएस जिला प्रोग्राम पदाधिकारी अपने प्रत्येक प्रखण्ड में सीडीपीओ/ महिला पर्यवक्षिका के सहयोग से अपने क्षेत्र के केन्द्रों पर होने वाली सास बहू सम्मेलन के सफल आयोजन में सहयोग करेंगें। उन्होंन जिला कल्याण पदाधिकारी सभी विकास मित्र के सहायता से अपने कार्य क्षेत्रों में जागरुकता अभियान चलाकर परिवार नियोजन सेवाएं दिलाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर होगा सास बहू बेटी सम्मेलन का आयोजन

बैठक में जिलाधिकारी को बताया गया कि इस बार का पखवाड़ा जिले में जनसंख्या स्थिीरीकरण के प्रति जागरुकता उत्पन्न करना, परिवार नियोजन कार्यक्रम अंतर्गत उपलब्ध सेवाओं की जानकारी पर केंद्रित है।

पखवाड़ा को सफल बनाने हेतु निम्नलिखित चरणों में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें पांच से 11 फरवरी तक दंपति संपर्क सप्ताह, स्वास्थ्य मेला व मीडिया ब्रीफिंग का आयोजन तथा प्रखंड स्तर पर सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर सास बहू बेटी सम्मेलन का आयोजन किया जाना था।

वहीं, 12 से 24 फरवरी तक परिवार नियोजन सेवा पखवाड़ा का आयोजन किया जाएगा। पहले चरण में प्रचार प्रसार के दौरान सुखी परिवार हेतु परिवार नियोजन का महत्व, सही उम्र पर लड़की की शादी, मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य के लिए साफ सफाई एवं स्वच्छता का महत्व इत्यादि विषयों पर जन जागरण किया जायेगा।

योग्य दंपति को दी जा रही परिवार नियोजन की बास्केट ऑफ चॉइस

इस क्रम में प्रखंड स्तर पर आशा कर्मियों के द्वारा घर-घर जाकर पुरूष नसबंदी / महिला बांध्याकरण प्रति जागरूकता, महिला पुरूष समानता, स्वस्थ जीवन हेतु साफ-सफाई एवं स्वच्छता का महत्व, सुखी एवं स्वस्थ जीवन हेतु परिवार नियोजन का महत्व, सही उम्र में शादी, पहला बच्चा शादी के 2 वर्ष बाद एवं दो बच्चों के बीच 3 वर्ष का अंतर इत्यादि विषयों पर जन जागरण का कार्य किया जाएगा।

साथ ही, आशा कार्यकर्ताओं द्वारा परिवार नियोजन कार्यकम के अंतर्गत उपलब्ध बास्केट ऑफ चॉइस से योग्य दंपतियों को अवगत कराया जायेगा तथा अस्थाई सेवाएं भी हाथों-हाथ उपलब्ध कराई जाएंगी। परिवार नियोजन के बास्केट ऑफ चॉइस में माला एन, इमरजेंसी गर्भनिरोधक गोलियां, छाया, अंतरा सुई, कंडोम, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी इत्यादि अस्थाई साधन तथा महिला एवं पुरूष नसबंदी जैसे परिवार नियोजन की स्थाई विधियां शामिल है।

वहीं, 24 फरवरी तक सेवा पखवाड़ा तहत सदर अस्पताल, अनुमंडल अस्पताल, सामुदायिक/प्राथमिक स्वास्थ्य केंन्द्रों में भी इच्छुक लाभार्थियों का अभियान चलाकर उनकी इच्छा अनुसार गर्भनिरोधक सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। खासकर परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी सुनिश्चित करने पर जोर देते हुए अधिक से अधिक पुरूष नसबंदी करने का लक्ष्य रखा गया है।

बैठक में स्वास्थ्य विभाग से सिविल सर्जन, बक्सर स्वास्थ्य विभाग के सभी जिला स्तरीय पदाधिकारी, जिला स्वास्थ्य समिति के सभी पदाधिकारीगण, जिले के सभी संस्थानों के उपाधीक्षक एवं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, सभी संस्थानों के प्रबंधक एवं सामुदायिक उत्प्रेरक सम्मिलित हुए।

इस बैठक में आईसीडीएस से जिला प्रोग्राम पदाधिकारी, महादलित विकास मिशन से जिला कल्याण पदाधिकारी एवं जिला कार्यक्रम प्रबंधक जीविका, जिला पंचायती राज्य पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी एवं सभी परिवार नियोजन परामर्शी भी सम्मिलित हुए।

- Advertisement -

विज्ञापन और पोर्टल को सहयोग करने के लिए इसका उपयोग करें

spot_img
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

spot_img

संबंधित खबरें