जननी जीविका महिला उत्पादक समूह के द्वारा जैविक सैनिटरी पैड उत्पादक इकाई का CEO द्वारा किया गया उद्घाटन

यह भी पढ़ें

- Advertisement -

बक्सर : जिला प्रशासन बक्सर के सहयोग से एस.जे.वी.एन. के समन्वय से प्राप्त आवंटित राशि (30 लाख) एवं जीविका द्वारा आवंटित राशि (26.69 लाख) कुल राशि – 56.69 लाख की सहायता से आदर्श जीविका महिला विकास स्वावलंबी सहकारी समिति लि०, बनारपुर, चौसा (बक्सर) अंतर्गत गठित जननी जीविका महिला उत्पादक समूह के द्वारा जैविक सैनिटरी पैड उत्पादक इकाई का उद्घाटन मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी जीविका-सह-आयुक्त मनरेगा-सह-मिशन निदेशक, लोहिया स्वच्छता बिहार अभियान-सह-मिशन निदेशक जल जीवन हरियाली मिशन के द्वारा किया गया।

तत्पश्चात मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी जीविका-सह-आयुक्त मनरेगा-सह-मिशन निदेशक, लोहिया स्वच्छता बिहार अभियान-सह-मिशन निदेशक जल जीवन हरियाली मिशन के द्वारा समाहरणालय परिसर स्थित सभागार में स्वास्थ्य, ICDS, शिक्षा, जीविका एवं अन्य विभाग के पदाधिकारियों, पार्टनर एजेंसी PCI के प्रतिनिधियों, जीविका दीदियों एवं किशोरियों के साथ जैविक सैनिटरी पैड का अनावरण, गुणवत्ता एवं विपणन रणनीति पर परिचर्चा की गई l

जिसका मुख्य उद्देश्य जीविका समूह/उनके परिवार के किशोरियों/दीदियों के साथ-साथ अन्य महिलायों तक सुगमतापूर्वक, बाज़ार से कम लागत में जैविक सैनिटरी पैड उपलब्ध कराना है I जिससे गाँव की सभी महिलाओ सुगम रूप से जैविक सैनिटरी पैड की मांग को पूरा किया जा सके, उपयोग के महत्त्व को समझ पायें, साथ ही साथ अपने स्वास्थ्य की सही देख भाल कर पायें I इस कार्य से जीविका दीदियों को जहाँ एक ओर रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे वहीं दूसरी ओर उनके स्वास्थ्य पर भी साकारात्मक प्रभाव पड़ेगा I

जीविका दीदियों द्वारा निर्मित इस सैनिटरी पैड की खासियत यह है कि यह प्राकृतिक सामग्री से बना है क्लोरीन मुक्त, रसायन मुक्त और पूरी तरह से कंपोस्टेबल, पर्यावरण के अनुकूल, बीआईएस मानक के अनुसार है। साथ ही त्वचा पर कोई भी प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा।

- Advertisement -

अपने संबोधन में जिला पदाधिकारी बक्सर के द्वारा कहा गया कि जिसकी रुपरेखा एक वर्ष पूर्व तैयार की गई वह आज फलीभूत हुई है I इसे जन-जन तक पहुँचाने और उपयोग में लाने के लिए प्रेरित किया जाए I साथ ही मीडिया बंधुओं से इसके संबंध में अधिक से अधिक प्रचारित करने का अनुरोध किया गया।

मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जीविका द्वारा बताया गया कि चौसा प्रखंड अंतर्गत सैनिटरी पैड इकाई बिहार का प्रथम जैविक सैनिटरी उत्पादक इकाई है I विभिन्न विभागों यथा – स्वास्थ्य, शिक्षा, ICDS इत्यादि संस्थानों से अपील की गयी कि इन संस्थानों का दायरा बड़ा है और यह जिम्मेवारी है कि इस विषय पर खुल कर चर्चा की जाय और जीविका दीदी द्वारा निर्मित “मायरा” सैनिटरी पैड से अवगत करते हुए इसे व्यवहार में लायें I मायरा उत्पाद के सफलता के लिए शुभकामनाएं भी दी गई I

कार्यक्रम में जिला पदाधिकारी बक्सर, उप विकास आयुक्त बक्सर, सिविल सर्जन बक्सर, निदेशक, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण बक्सर, जिला शिक्षा पदाधिकारी बक्सर, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी आईसीडीएस बक्सर, महिला कारा अधीक्षक बक्सर, परियोजना प्रबंधक जीविका, परियोजना प्रबंधक जीविका, संबंधित जिला स्तरीय पदाधिकारीगण, जीविका की दीदियों एवं विभिन्न विद्यालयों से आए हुए छात्राएं उपस्थित थे।

- Advertisement -

विज्ञापन और पोर्टल को सहयोग करने के लिए इसका उपयोग करें

spot_img
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

विज्ञापन

spot_img

संबंधित खबरें